वाह! रजीबा वाह!


..................

रे...रजीबाऽऽ...रे...रजीबाऽऽ.
रे रजीबाऽऽ जिए जा....,
दूध मलाई खाए जा....
मोदी मोदी गाए जा...
रे...रजीबाऽऽ...रे... रजीबाऽऽ.
रे रजीबाऽऽ जिए जा....,

रे...रजीबाऽऽ...रे... रजीबाऽऽ.
रे रजीबाऽऽ जिए जा....,
दूध मलाई खाए जा....
अरविन्द आस लगाए जा...
रे...रजीबाऽऽ...रे... रजीबाऽऽ.
रे रजीबाऽऽ जिए जा....,

रे...रजीबाऽऽ...रे... रजीबाऽऽ.
रे रजीबाऽऽ जिए जा....,
दूध मलाई खाए जा....
अखिलेश ट्यून बजाए जा...
रे...रजीबाऽऽ...रे... रजीबाऽऽ.
रे रजीबाऽऽ जिए जा....,

रे...रजीबाऽऽ...रे... रजीबाऽऽ.
रे रजीबाऽऽ जिए जा....,
दूध मलाई खाए जा....
राहुल बैन्ड बजाए जा...
रे...रजीबाऽऽ...रे... रजीबाऽऽ.
रे रजीबाऽऽ जिए जा....,

कुछ भी कर ससूर!
पर अपना शोध-प्रबन्ध जमा कर
हमें अनुगृहीत कर!!!!

Post a Comment

Popular posts from this blog

‘तोड़ती पत्थर’: संवेदन, संघात एवं सम्प्रेषण

उपभोक्ता-मन और विज्ञापन बाज़ार की उत्तेजक दुनिया

भारतीय युवा और समाज: