जि़न्दगी


..........

आकाश में
बादलों का आना
और फिर
मेघ बन बरसना

नदी में
जल का जुमना
और फिर
धार बन बहना

आओ तुम भी
जरा समीप मेरे
हम कल के लिए
मेघों से अंजुरी भर जल लेंगे
और नदियों से
अंजुरी भर धार

मुझे पता है
इस अंजुरी भर मात्रा में
जीवन का संपूर्ण द्रव्यमान होगा
पूरी गति
विश्वास करो मेरा
मैंने पढ़ा है
‘जल ही जीवन है’
और जीवन से इतर
हमें चाहिए भी तो नहीं कुछ!
Post a Comment

Popular posts from this blog

‘तोड़ती पत्थर’: संवेदन, संघात एवं सम्प्रेषण

उपभोक्ता-मन और विज्ञापन बाज़ार की उत्तेजक दुनिया

भारतीय युवा और समाज: