Posts

Showing posts from September, 2017

बीएचयू को सवर्ण-मंदिर बनाने का हश्र

------- राजीव रंजन प्रसाद ............
मुझ जैसे लड़के के लिए काशी हिन्दू विश्वविद्यालय सीखने-जानने-समझने ख़ातिर कर्मस्थली रहा। घोर जातिवादी कुलपतियों द्वारा बार-बार हिन्दी विभाग की नियुक्ति-प्रक्रिया निरस्त करने के बावजूद हम अपने इस संस्थान से बेइंतहा प्यार करते हैं। क्योंकि आज हम जो कुछ हैं, जितनी भी अक़्ल के लायक हैं; काशी हिन्दू विश्वविद्यालय की देन सर्वाधिक है। आज जो लोग अंध-राष्ट्रवाद या खि़लाफ-राष्ट्रवाद का कपोत उड़ा रहे हैं; टेलीविज़न स्क्रीन या विभिन्न माध्यमों पर बीएचयू का पक्ष रख रहे हैं; आलाप-प्रलाप कर रहे हैं, उन्होंने बीएचयू की गरिमा को कब और कितना बढ़ाया है, मुझे तो अपने 10 वर्षों के रहवास में तनिक याद नहीं।
काशीहिन्दूविश्वविद्यालययानीबीएचयू कामाहौलअराजकऔरहिंसकनहींहै।प्रतिरोधऔरविरोध, सहमतिअथवाअसहमतिकेपर्याप्त ‘स्पेस’  यहविश्वविद्यालयमुहैयाकरातारहाहै।घटनाजोहुई, उसकीनिंदाजितनीकीजाएकमहै।लेकिनसंस्थानकोबदनामकरनेकीसाजिशउचितनहींहै। क्योंकि बिना नाथ-पगहा के हम जैसे जिज्ञासु और सीखने के लिए इच्छुक विद्यार्थियों कोआगेबढ़ानेमेंइसविश्वविद्यालयकीभूमिकाअकथनीयहै।तमामअकादमिकखामियोंएवंप्रशासनिकगड़…

'अरुण प्रभा' : अरुणाचल प्रदेश से उदीयमान हिंदी अध्येता

Image
राजीव रंजन प्रसाद ----------  अरुणाचल प्रदेश अवस्थित राजीव गाँधी विश्वविद्याालय का हिंदी विभाग अकादमिक स्तर एवं गुणवत्ता को लेकर वचनबद्ध है। विभागीय शोध-पत्रिका के रूप में ‘अरुण प्रभा’ एक बड़ी उपलब्धि है। यद्यपि स्तरीय हिंदी शोध-पत्रिका निकालने को लेकर दृढ़-संकल्पित होना अपनेआप में बड़ी बात है। वैसे ख़राब समय में जब लोग शोध-पत्र का नाम पढ़कर या कि शोधालेख का मात्र शीर्षक पढ़कर संतोष कर लेते हैं; शोध-अध्येताओं को अपनी लेखनी और माँजनी होगी; अपने शोध-कार्य को और भी बेहतर बनाने का अथक प्रयास करना होगा।  ---------------