Posts

Showing posts from November, 2016

मेरी वाणी / देम्यान बेदनी

http://kavitakosh.org/kk/
-------------------------
मैं गाता हूँ
किन्तु क्या मैं वास्तव में गाता हूँ

मेरी वाणी ने पहचानी
संघर्षों की दुर्दमताएँ
प्रत्येक पृष्ठ पर सीधी-सादी
हैं मेरी कविताएँ

चकाचौंध में मौन
मगन जो आनन्दों में
ऎसे चिकने-चुपड़े श्रोताओं के सम्मुख
वीणाओं की मीठी स्वर लहरी के नीचे
नहीं उठाता मैं अपनी कर्कश आवाज़ें
झिलमिल करते किसी मंच पर

मैं अपनी भर्रायी आवाज़ें वहाँ उठाता
जहाँ रोष ने
छल-छन्दों ने
अपना घेरा डाला
शापित भूतकाल ने अपने स्वर का
बे-हिसाब अनुचित उपयोग किया है

मैं नहीं मुलम्मा
कविता के प्रेरक तत्त्वों का
मेरी तीखी पैनी कविता

वेरा पावलोवा की कविताएँ

वेरा अनातोलियेव्ना पावलोवा
जन्म: 4 मई 1963 उपनाम वेरा पावलोवा जन्म स्थान मास्को, रूस कुछ प्रमुख कृतियाँ आसमानी जानवर (1997), दूसरी भाषा (1998), चौथा सपना (2000), हाथ का सामान (2005), भाषा के उस किनारे पर (2009) आदि कुल 18 कविता-संग्रह विविध अब अमरीका में रहती हैं। ------------------------- http://kavitakosh.org/kk
निर्रथकता का अर्थ / वेरा पावलोवा
हम धनवान हैं
हमारे पास कुछ भी नहीं है खोने को
हम पुराने हो चले
हमारे पास दौड़ कर जाने को नहीं बचा है कोई ठौर
हम अतीत के नर्म गुदाज तकिए में फूँक मार रहे हैं
और आने वाले दिनों की सुराख से ताका-झाँकी करने में व्यस्त हैं ।

हम बतियाते हैं
उन चीज़ों के बारे में जो भाती हैं सबसे अधिक
और एक अकर्मण्य दिवस का उजाला
झरता जाता है धीरे-धीरे
हम औंधे पड़े हुए हैं निश्चेष्ट -- मृतप्राय
चलो -- तुम दफ़्न करो मुझे और मैं दफ़नाऊँ तुम्हें।

बकाया राशि

----------
राजीव रंजन प्रसाद ----------
दो दिन हो गए दीवाली बीते। चमक के घर का बरामदा अल्पना से आज भी सजा है। घर में कोई चहलकदमी नहीं। दोनों बच्चे आनु और मीनू भी नहीं दिख रहे।

पड़ोस के लोग चमक के बारे में कई तरह की बातें कर रहे थे। दीवाली के दिन वह दीवाली की खरीदारी करने शहर गया था। पत्नी और बच्चे भी उसके साथ थे। उस दिन वह सुबह से खुश था। इस बार खेत में अच्छी-खासी प्याज पैदा हुई थी। पिछले हफ्ते लोगों ने उसे प्याज को ट्रेक्टर पर लादकर शहर ले जाते हुए देखा था। उसने कईयों को बताया था कि दीवाली के दिन उसे वाजिब रुपए मिल जाएंगे। मेहनती चमक किसी का अपने ऊपर कर्ज नहीं रखता था। इसलिए मनोहर को उसने पहले से कह रखा था, ‘दीवाली के दिन भाई तुम्हारे पैसे दे दूँगा।’

लेकिन चमक अचानक किसी को कुछ बताए बिना कहाँ चला गया। लोग आपस में चर्चा कर रहे थे कि अचानक ‘आकाश गिरने’ माफ़िक ख़बर फैल गई। सहज किसी को विश्वास न हुआ। चमक सपरिवार जान दे दिया था। उन सबकी लाश प्याज के ढेर में मिला।

बाज़ार समिति में ग्रामीणों की अफरातफरी मची थी। कोई कुछ कह नहीं पा रहा था। चमक ने मरने के लिए यही जगह क्यों चुना; यह बाद की बात थी।…

कविता : देखन में छोटन लागे, घाव करे गंभीर

विशेष सन्दर्भ: हिंदी कविता --------------  राजीव रंजन प्रसाद  ---  कविता लघुता में विराट का दर्शन करा सकती है, यदि पाठक सहृदय हो। सहृदयता समष्टि की सोच है जिससे यह सृष्टि विराजमान है। भाव-संवेग द्वारा इस शब्दज संसार को अनुभूत एवं अभिव्यक्त करना कविता का धर्म है। यहाँ धर्म का अर्थ धारिता से है यानी ग्रहण करने की क्षमता से। आजकल यहीं हम सर्वाधिक चुक रहे हैं। हममें ग्रहणशीलता का आवेग तो दिखाई देता है; किन्तु उसकी उपयुक्त पात्रता नहीं है। सबसे बड़ा पेंच यह है कि कविता को हमने एक ढर्रे की तरह देखना शुरू कर दिया है। उसके आने की गति तीव्र है। अब चूँकि आने वाली हर चीज ‘कविता’ घोषित कर दी जा रही है; इस कारण समस्या बढ़ी हुई है। मुर्दा आलोचकों पास ज़बान है, लेखन की तबीयत नहीं। जब तक हम लेखन के माध्यम से आलोचनापरक प्रतिपाद्य नहीं प्रस्तुत करते; अच्छी और बुरी कविता के बीच अंतर कर पाना आसान नहीं होगा। 
लिहाजतन, 'बिकाऊ कवि' कई बार सहृदय आलोचकों के अभाव में कवि बना रहता है क्योंकि वह अपने ‘कवि’ होने की घोषणा करता है। आजकल हिंदी में ‘कवि’ ऐसे हैं। वे कवि होने का ‘टैग’, ‘लेबल’, ‘बैनर’ आदि लटकाए फिर…