Tuesday, August 18, 2015

सच

------------

जब आप जिद ठानते हैं, तो कई बार रिश्तों के महीन धागे दरकते हैं। लेकिन यदि नियत दुरुस्त हो, तो यह कोई खतरे की चीज नहीं है। मेरे अपने लोग इस नखरे को भी बर्दाश्त कर लेंगे।...वैसे भी मैं, तो कहकर धोखा देता हूं। मेरी धोखेबाजियां मेरे मनमर्जियों के हिसाब से चलती हैं। जैसे काशी छूट गया, तो छूट गया।

बस, यही और इतना ही अंतिम सच।
Post a Comment

हमने जब भी पाया, पूरा पाया...!

अपने मित्र डाॅ. लक्ष्मण प्रसाद गुप्ता का चयन इलाहाबाद केन्द्रीय विश्वविद्यालय में  सहायक प्राध्यापक (हिन्दी) के पद पर  होने की खुशी मे...