Friday, March 18, 2016

नियति


.....

मैं अपनी भाषा में बोलता हूं और
ख़ारिज़ हो जाता हूं
यह और बात है सत्ता जो भाषा बोलती है
या जिस भाषा को बोलने का हु़क्म है उसे
मृत्यु के क्षण में
उसे उसकी भाषा में नहीं
हमारी भाषा में ही दफनाया और जलाया जाएगा!!!

Post a Comment

हमने जब भी पाया, पूरा पाया...!

अपने मित्र डाॅ. लक्ष्मण प्रसाद गुप्ता का चयन इलाहाबाद केन्द्रीय विश्वविद्यालय में  सहायक प्राध्यापक (हिन्दी) के पद पर  होने की खुशी मे...