अरुण प्रभा : हिंदी-शोध की मानक और स्तरीय पत्रिका बनाने का संकल्प, इच्छाशक्ति और दृढ़ता


-------------

आगामी अंक का प्रस्तावित कलेवर: राजीव रंजन प्रसाद
-------------

हम अतिरिक्त कुछ नहीं कहना चाहते, आप यदि शोध तथा शोध-पत्र की गुणवत्ता और स्तरीयता को अकादमिक सेहत के लिए प्राणवायु सरीखा मानते हैं, तो निम्न पता आप ही के लिए है :

सम्पादक
अरुण प्रभा, हिंदी विभाग
राजीव गाँधी विश्वविद्यालय
रोनो हिल्स, दोइमुख
अरुणाचल प्रदेश-791 112
----------------------- 


Post a Comment

Popular posts from this blog

‘तोड़ती पत्थर’: संवेदन, संघात एवं सम्प्रेषण

उपभोक्ता-मन और विज्ञापन बाज़ार की उत्तेजक दुनिया

भारतीय युवा और समाज: