वाह! रजीबा वाह!


...........

रजीबा शनकाह है,
हाँ जी हाँ।

रजीबा पागल है,
हाँ जी हाँ।

रजीबा चोंधर है,
हाँ जी हाँ।

रजीबा मतलबी है,
हाँ जी हाँ।

रजीबा चुगलखोर है,
हाँ जी हाँ।

रजीबा शार्टकटिया है,
हाँ जी हाँ।

रजीबा मुड़ीकटवा है,
हाँ जी हाँ।

अरे! सब रजीबे है,
तो आप क्या हैं?

Post a Comment

Popular posts from this blog

‘तोड़ती पत्थर’: संवेदन, संघात एवं सम्प्रेषण

उपभोक्ता-मन और विज्ञापन बाज़ार की उत्तेजक दुनिया

भारतीय युवा और समाज: