Monday, January 23, 2017

वाह! रजीबा वाह!


...........

रजीबा शनकाह है,
हाँ जी हाँ।

रजीबा पागल है,
हाँ जी हाँ।

रजीबा चोंधर है,
हाँ जी हाँ।

रजीबा मतलबी है,
हाँ जी हाँ।

रजीबा चुगलखोर है,
हाँ जी हाँ।

रजीबा शार्टकटिया है,
हाँ जी हाँ।

रजीबा मुड़ीकटवा है,
हाँ जी हाँ।

अरे! सब रजीबे है,
तो आप क्या हैं?

Post a Comment

हमने जब भी पाया, पूरा पाया...!

अपने मित्र डाॅ. लक्ष्मण प्रसाद गुप्ता का चयन इलाहाबाद केन्द्रीय विश्वविद्यालय में  सहायक प्राध्यापक (हिन्दी) के पद पर  होने की खुशी मे...