Tuesday, September 8, 2015

अध्यापक


......

एक घण्टे की कक्षा। आफ़त जबर्दस्त। विद्यार्थी चाव से सुनते हैं। उनके अनुभूति और अभिव्यक्ति में अंतराल है। बीच-बीच में बतियाने की कोशिश। उन्हे जानने का प्रयास। वह कुछ बोले, तो जानें। बाकी सब सुघड़। मनोरम। अति उत्तम। मैं छात्रों को नया दे पा रहा हूं, कह पा रहा हूं...यह बाद की बात है। लेकिन इतना सीखा कि अध्यापक बोलने से पहले अंतहीन कठिनाइयों से जूझना सीखता है। बिना सीखे वह सीखा ही नहीं सकता। कुछ दे ही नहीं सकता। 
Post a Comment

हमने जब भी पाया, पूरा पाया...!

अपने मित्र डाॅ. लक्ष्मण प्रसाद गुप्ता का चयन इलाहाबाद केन्द्रीय विश्वविद्यालय में  सहायक प्राध्यापक (हिन्दी) के पद पर  होने की खुशी मे...