हिन्दी दिवस के उपलक्ष्य पर विद्यार्थियों से दो बात

रजीबा की क्लास

भारतीय परिक्षेत्र से बाहर और भारत के सभी क्षेत्रों में हिन्दी बोले जाने वाली एक संख्याबहुल भाषा है। संख्याबहुल मतलब जिसे बहुत सारे लोग बोलते हैं; अपने भाव, विचार एवं दृष्टि में बड़ी आसानी से बरतते हैं। यह सहजता हिन्दी भाषा की खूबसूरती है यानी प्राणतत्त्व। हिन्दी भाषा की लिपि देवनागरी है। हिन्दी लिखावट और उच्चार दोनों में सादृश्यता रखती है। इस भाषिक वैशैष्टिय के कारण यह बेहद सुघड़ और सजीव हुआ करती है। देखिए, दुनिया की हर भाषा से मनुष्य की लगाववृत्ति जन्मजात होती है। भाषिक सामथ्र्य मनुष्य के मस्तिष्क में जन्मना कूटीकृत होते हैं। भाषा-अर्जन की प्रवृत्ति मनुष्य में इसी कारणवश है। भाषा का शाब्दबोध एक अर्थपूर्ण इन्द्रधनुष रचता है। रूपबोध, रंगबोध, गंधबोध, ध्वनिबोध आदि का मूल कारण भाषा है। अनुभूति और अभिव्यक्ति में फांक, फर्क अथवा फेरफार को भाषा ही जतलाती है, संकेत करती है। भाषा दुविधा एवं द्वंद्व निवारण की दवा है। यह एक प्रयुक्तिजन्य औजार है, एक मानवसुलभ सुविधा है।

भाषा के माध्यम से मनुष्य प्रकृति के विभिन्न रूपों, प्रकृति की विभिन्न गतियों, प्रकृति की विभिन्न मुद्राओं का सफल अंकन करता है। लिपि एक जरूरी साधन है। दुनिया में भाषा की तरह लिपि भी अनेकानेक हैं। इसीलिए विद्वानों का कहना है कि लिपि की उत्पत्ति भाषा की उत्पत्ति से बहुत बाद में हुई। लिपि मानव समुदाय का महत्त्वपूर्ण आविष्कार है। लिपि की उत्पत्ति से पूर्व भावाभिव्यक्ति का दायरा बोलने और सुनने तक सीमित था। मनुष्य की उत्कट अभिलाषा रही होगी...तभी तो उसने सोचा कि उसके ज्ञान-विज्ञान सम्बन्धी भाव-विचार दूर-दूर तक पहुँचे और इन्हें भविष्य के लिए संचित किया जा सके, उनका संरक्षण किया जा सके। इस आवश्यकता की पूर्ति करना उनका लक्ष्य बन गया और आगे चलकर यही मनुष्य के लिपि के आविष्कार की प्रेरणा बनी।

पारिभाषिक रूप में लिपि को देखना चाहें, तो हम कह सकते हैं कि भाषा के उच्चाित रूप को निर्धारित प्रतीक चिह्नों के माध्यम से लिखित रूप देने का साध नही लिपि है अर्थात् भाषा के लिखने का ढंग लिपि है। लिपि मनुष्य द्वारा अपने भावों, विचारों, अनुभवों आदि को सम्पे्रषित करने का दूश्य माध्यम है। हम विश्व की विभिन्न भाषाओं और लिपियों को देखें, तो इनमें से कुछ इस रूप में वर्गीकृत की जा सकती हैं:
भाषा: लिपि
हिंदी, संस्कृत, मराठी, नेपाली ः देवनागरी
उर्दू, अरबी ः फ़ारसी, अरबी
पंजाबी ः गुरुमुखी
अंग्रेजी, फें्रच, स्पेनिश, जर्मन ः रोमन
रूस, बुल्गोरियन ः रूसी

हमें लिपि के सन्दर्भ में चर्चा करते समय इस बात को जरूर ध्यान में रखना चाहिए कि अकेले भारत में अनेक लिपियाँ प्रचलित हैं, जैसे: देवनागरी, बांगला, तमिल, तेलुगु, मलयालम, गुरुमुखी आदि। इन लिपियों का विकास ब्राह्मी लिपि से हुआ है। भारतीय विद्वानों का इस सम्बन्ध में जो दृष्टिकोण है....उसकी बात करें, तो ब्राह्मी के प्राचीनतम नमूने अर्थात् शिलालेख ईसा से 500 वर्ष पूर्व के प्राप्त होते हैं और 350 ईस्वी तक इसका यह स्वरूप प्रचलित रहा।

.......यह हरि अनंत, हरि कथा अनंता की तरह है; बाकी चर्चा फिर कभी। 

Post a Comment

Popular posts from this blog

‘तोड़ती पत्थर’: संवेदन, संघात एवं सम्प्रेषण

उपभोक्ता-मन और विज्ञापन बाज़ार की उत्तेजक दुनिया

भारतीय युवा और समाज: