Friday, October 14, 2016

तलाश

------------
राजीव रंजन प्रसाद
-------------

बार-बार
हुआ अहसास
जो कुछ है
वह निरा माया है
हर उपलब्धि
अगली महत्त्वाकांक्षा का अनुपूरक है
हम भटकते हैं अहर्निश
ऋजुरेखा की तलाश में
लेकिन वह सीधी रेखा नहीं
माया की ही प्रतिछाया है
फिर यह लाग कैसी
कैसा बवंडर और चक्रवात यह
कुछ हो जाने का
बहुत कुछ पा लेने का
अमर हो जाने का

ओह!
ऊँ शांति....ऊँ शांति....ऊँ शांति!!!
Post a Comment

हमने जब भी पाया, पूरा पाया...!

अपने मित्र डाॅ. लक्ष्मण प्रसाद गुप्ता का चयन इलाहाबाद केन्द्रीय विश्वविद्यालय में  सहायक प्राध्यापक (हिन्दी) के पद पर  होने की खुशी मे...