तलाश

------------
राजीव रंजन प्रसाद
-------------

बार-बार
हुआ अहसास
जो कुछ है
वह निरा माया है
हर उपलब्धि
अगली महत्त्वाकांक्षा का अनुपूरक है
हम भटकते हैं अहर्निश
ऋजुरेखा की तलाश में
लेकिन वह सीधी रेखा नहीं
माया की ही प्रतिछाया है
फिर यह लाग कैसी
कैसा बवंडर और चक्रवात यह
कुछ हो जाने का
बहुत कुछ पा लेने का
अमर हो जाने का

ओह!
ऊँ शांति....ऊँ शांति....ऊँ शांति!!!
Post a Comment

Popular posts from this blog

‘तोड़ती पत्थर’: संवेदन, संघात एवं सम्प्रेषण

उपभोक्ता-मन और विज्ञापन बाज़ार की उत्तेजक दुनिया

भारतीय युवा और समाज: