कल की तारीख़ में आज लिखा गया ख़त


प्रिय देव रंजन,
कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी में तुम्हारे दाखिले से प्रसन्न हूँ। यह तुम्हारे श्रम की सिद्धि है। संतुष्टिपूर्वक आगे और अच्छा करो, शुभकामना। तुम्हारी माँ बता रही थी वहाँ तुम्हारे साथ में एक लड़की रह रही है। हिन्दी में धाराप्रवाह बोलती है। वह तो उस बाला पर मोहित है। चलो, सावधानीपूर्वक मैत्री का निर्वाह करना। इन दिनों दीप रंजन कविता लिखने में मगन है। तुम जानते ही हो कि उसका जी जरूरतमंद लोगों की सेवा करने में ज्यादा लगता है। वह बोलता भले कम है, लेकिन उसकी चुप्पी में ढेरों कोलाहल, हलचल और किस्म-किस्म की आवाजें शामिल है। आजकल कनिषा से उसकी खूब बन रही है। दोनों को संग-साथ खुश देख खुशी होती है। तुम्हारी माँ को भी कोई शिकायत नहीं। हमदोनों को पता है कि तुमदोनों अपनी जिंदगी हमारे सलाह-सुझाव के बगैर भी बेहतर तरीके से जीने का गुर सीख चुके हो। दरअसल, खुद से तय मानदण्डों के माध्यम से मिली कामयाबी आदमी को ज्यादा सफल साबित करती है।

तमाम घरेलू संपन्नता के बावजूद तुम्हारी माँ को तुम्हारे ई-मेल का इंतजार रहेगा।
तुम्हारा पिता
राजीव रंजन प्रसाद
01/11/2029
Post a Comment

Popular posts from this blog

‘तोड़ती पत्थर’: संवेदन, संघात एवं सम्प्रेषण

उपभोक्ता-मन और विज्ञापन बाज़ार की उत्तेजक दुनिया

भारतीय युवा और समाज: