रजीबा का ‘रांझणा’


..........................

अटूट प्रेम पनपता है...जब कोई टूट कर चाहता है।

जात-मज़हब, भाषा-भूगोल, अमीरी-गरीबी इत्यादि से परे एक लौण्डे के भीतर युवा उमरिया में प्यार-व्यार होना स्वाभाविक है.....किसी लौंडिया के लिए ‘रांझणा’ बन जाना जो बिल्कुल ही संभव। खाशकर खाँटी/ठेठ बनारसीपन का भोकाल किसी लौंडे के तन-मन में रचा-बसा हो तो....फिर कहना ही क्या भैये....?

....तो फिर हो जाए ‘रांझणा’....!
Post a Comment

Popular posts from this blog

‘तोड़ती पत्थर’: संवेदन, संघात एवं सम्प्रेषण

उपभोक्ता-मन और विज्ञापन बाज़ार की उत्तेजक दुनिया

भारतीय युवा और समाज: