Friday, May 27, 2016

स्त्री


......

मेरे भीतर एक स्त्री
बना रही है मेरे लिए नाश्ता
और मैं खाना चाह रहा हूँ उसका गोश्त

मेरे भीतर वही स्त्री
मेरे पस्त हौसले की मालिश कर रही है
और मैं उसकी पीठ पर करना चाहता हूँ प्रहार

मेरे भीतर की स्त्री ने
शायद भाँप ली है मेरे मर्दाना चालाकियों को
इसलिए वह भोजन में मिला रही है जहर की थोड़ी मात्रा
तेल में धीमी असर करने वाले जीवाणु
ताकि वह अपने स्त्रीत्व को मार सके

मैं आक्रांत, भयंकर भयभीत, आकुल, परेशान, हैरान, बेचैन, बदहवाश,
क्योंकि उस स्त्री के मरते ही मर जाएगा यह पूरा विश्व।

Post a Comment

हमने जब भी पाया, पूरा पाया...!

अपने मित्र डाॅ. लक्ष्मण प्रसाद गुप्ता का चयन इलाहाबाद केन्द्रीय विश्वविद्यालय में  सहायक प्राध्यापक (हिन्दी) के पद पर  होने की खुशी मे...