Sunday, April 21, 2013

देखो बिरनी उड़ी-उड़ी


..........................
(देव-दीप के लिए......,)

उड़ी-उड़ी भाई, उड़ी-उड़ी
देखो बिरनी, उड़ी-उड़ी
लाल-पीली घुली-मिली
देखो बिरनी, उड़ी-उड़ी

उड़ी-उड़ी भाई, उड़ी-उड़ी
नन्ही-प्यारी बिरनी, उड़ी-उड़ी

फुर्तीले होते जिसके डंक
भयभीत होते राजा-रंक
उड़ी-उड़ी भाई, उड़ी-उड़ी
देखो बिरनी, उड़ी-उड़ी

देखती जिधर चीनी-गुड़
बिरनी जाती बार-बार मुड़
उड़ी-उड़ी भाई, उड़ी-उड़ी
देखो बिरनी, उड़ी-उड़ी

बड़े जतन से करती काम
धुन में रहना उसका विश्राम
उड़ी-उड़ी भाई, उड़ी-उड़ी
देखो बिरनी, उड़ी-उड़ी

बिरनी सबसे हिलमिल रहती
आसमान में झिलमिल करती
उड़ी-उड़ी भाई, उड़ी-उड़ी
देखो बिरनी, उड़ी-उड़ी

संगी-साथी, दोस्त और यार
बिरनी करती सबसे प्यार
उड़ी-उड़ी भाई, उड़ी-उड़ी
देखो बिरनी, उड़ी-उड़ी

उड़ी-उड़ी भाई, उड़ी-उड़ी
नन्ही-प्यारी बिरनी, उड़ी-उड़ी

Post a Comment

हमने जब भी पाया, पूरा पाया...!

अपने मित्र डाॅ. लक्ष्मण प्रसाद गुप्ता का चयन इलाहाबाद केन्द्रीय विश्वविद्यालय में  सहायक प्राध्यापक (हिन्दी) के पद पर  होने की खुशी मे...