Monday, April 22, 2013

नीम का दतवन


...................
(देव-दीप के लिए......,)

डाॅक्टर, वैद्य, नीम-हकीम
सबको पसन्द दतवन नीम।

दाँत की रोशनी, हो डीम
सब सुझाए दतवन नीम।

दाँत-कीटाणु, करे तमाम
ऐसा पीड़ाहारी दतवन नीम।

स्वाद में तिकछ, थोड़ा तितापन
तब भी फलदायक दतवन नीम।

नहीं पसन्द था कभी मुझको
डंठल-बंठल दतवन नीम।

दाँत दिखाता जब कोई झकझक
याद है आता दतवन नीम।ं
Post a Comment

हमने जब भी पाया, पूरा पाया...!

अपने मित्र डाॅ. लक्ष्मण प्रसाद गुप्ता का चयन इलाहाबाद केन्द्रीय विश्वविद्यालय में  सहायक प्राध्यापक (हिन्दी) के पद पर  होने की खुशी मे...