नीम का दतवन


...................
(देव-दीप के लिए......,)

डाॅक्टर, वैद्य, नीम-हकीम
सबको पसन्द दतवन नीम।

दाँत की रोशनी, हो डीम
सब सुझाए दतवन नीम।

दाँत-कीटाणु, करे तमाम
ऐसा पीड़ाहारी दतवन नीम।

स्वाद में तिकछ, थोड़ा तितापन
तब भी फलदायक दतवन नीम।

नहीं पसन्द था कभी मुझको
डंठल-बंठल दतवन नीम।

दाँत दिखाता जब कोई झकझक
याद है आता दतवन नीम।ं
Post a Comment

Popular posts from this blog

‘तोड़ती पत्थर’: संवेदन, संघात एवं सम्प्रेषण

उपभोक्ता-मन और विज्ञापन बाज़ार की उत्तेजक दुनिया

भारतीय युवा और समाज: