स्मार्ट फोन नहीं, तो सौरी!


........................

आजकल मार्केट के खूब काॅल आते हैं। एक काॅल आया कि आपके लिए हमारे पास ये-ये स्कीम है और उसका वे-वे फायदे हैं। बस आपको करना यह है कि अपने स्मार्ट फोन से सारा काम कर लेना होगा।

मैंने कहा, मेरे पास स्मार्टफोन नहीं है।

जवाब मिला, ‘क्या!!!’

फोन कट गया। फिर नहीं आया।

मेरा मुँह कद्दू हो गया। स्मार्ट फोन नहीं, तो क्या खाक स्टेटस। फेसबुक/ट्वीटर पर अकांउट नहीं तो झंड इटेलेक्चुअल।

ओह! सौरी, मैं तो बाज़ार की तरह भावनाओं का दोहन करने लगा। मेरे पास मोबाइल है, माइक्रोमेक्स की। कीमत एक हजार पचास रुपए।

मुझे स्मार्टफोन की जरूरत नहीं।

कृपया आप भी मुझे यह सोचकर कभी न फोन करें कि मेरे पास स्मार्टफोन है। वैसे भी आपको मेरी जरूरत क्यों हो, जरूरत तो पूरे देश को स्मार्टफोन की है।



Post a Comment

Popular posts from this blog

‘तोड़ती पत्थर’: संवेदन, संघात एवं सम्प्रेषण

उपभोक्ता-मन और विज्ञापन बाज़ार की उत्तेजक दुनिया

भारतीय युवा और समाज: