मेरे आत्मविस्तारक ने कहा, काम की जुनून में खपो, तो दुनिया की मत सोचो; तुम्हारी हर बदमाशियाँ काम दिखाकर औरों को चुप करा लेंगी....


Post a Comment

Popular posts from this blog

‘तोड़ती पत्थर’: संवेदन, संघात एवं सम्प्रेषण

उपभोक्ता-मन और विज्ञापन बाज़ार की उत्तेजक दुनिया

भारतीय युवा और समाज: