Sunday, June 26, 2016

मेरे आत्मविस्तारक ने कहा, काम की जुनून में खपो, तो दुनिया की मत सोचो; तुम्हारी हर बदमाशियाँ काम दिखाकर औरों को चुप करा लेंगी....


Post a Comment

हमने जब भी पाया, पूरा पाया...!

अपने मित्र डाॅ. लक्ष्मण प्रसाद गुप्ता का चयन इलाहाबाद केन्द्रीय विश्वविद्यालय में  सहायक प्राध्यापक (हिन्दी) के पद पर  होने की खुशी मे...