Sunday, June 19, 2016

भारत में भ्रष्टाचार है क्योंकि लिखा-पढ़ी का सारा काम अंग्रेजी में होता है यानी अधिसंख्य जनता को न समझ में आने वाली भाषा में

---------------

मैंने बस यह कहा
और मुझे उन्होंने खूब मारा
मैंने वजह पूछा?
और उन्होंने मुझे फिर मारा
मैं वजह जानने खातिर
बार-बार पूछता रहा
और वे मुझे लगातार मारते रहे

एक क्षण
मैं खामोंश
मेरी ज़बान जिबह हो गई

अफसोस! कि इस पूरे वाकये का
किसी पर कोई असर नहीं पड़ा
दुनिया अपनी रौ में बजती रहे
अविराम, अविचल, अखटक....
Post a Comment

हमने जब भी पाया, पूरा पाया...!

अपने मित्र डाॅ. लक्ष्मण प्रसाद गुप्ता का चयन इलाहाबाद केन्द्रीय विश्वविद्यालय में  सहायक प्राध्यापक (हिन्दी) के पद पर  होने की खुशी मे...