सिनेमा के सौ बरस


 ........................

आज मैंने पान खाकर
होंठ किया लाल है
आज मेरे चेहरे पर
लगा गुलाल है

आज मेरे जिया का
रंग शरबती है
आज मेरे शब्दों का
अर्थ पार्वती है

आज मेरे दृश्यों का
रूप मनभावन हैं
भींगे हैं वस्त्र मेरे
आँखों में सावन है

आज मेरे हिस्से में
पटकथा ज्यादा है
आज मेरे गीतों में
मचलन का इरादा है

...........................
.........................
..............................
...........................

........................
.....................
...........................
.......................

आज अपनी उमरिया का
हुआ सौ साल है....,
यह साल लाजवाब है
यह साल बेमिसाल है।
Post a Comment

Popular posts from this blog

‘तोड़ती पत्थर’: संवेदन, संघात एवं सम्प्रेषण

उपभोक्ता-मन और विज्ञापन बाज़ार की उत्तेजक दुनिया

भारतीय युवा और समाज: