Friday, May 3, 2013

सुनो पार्टनर!!!


..................

पार्टनर, तुम कह सकते हो
मुझे ‘सेक्सी’
या इसी तरह का कुछ

पार्टनर, तुम कर सकते हो
मुझे ज़लील
नाॅनवेज जोक सुनाकर

पार्टनर, तुम दे सकते हो
मुझे गालियाँ
यूँ सटकर या सीटी बजाकर

पार्टनर, तुम काट सकते हो
मुझे चिकोटी
ताकि अपनी हँसी को राग दे सको

पार्टनर, तुम फेंक सकते हो
मुझ-पे तेजाब
अपनी कुण्ठा को विसर्जित करने के लिए

...................................
..............................
.......................................

.................................................
.........................................
....................................................

लेकिन, यह मत भूलो पार्टनर!
जो-जो तुम कर सकते हो
वह सब मेरी ही पैदाइश है!
Post a Comment

हमने जब भी पाया, पूरा पाया...!

अपने मित्र डाॅ. लक्ष्मण प्रसाद गुप्ता का चयन इलाहाबाद केन्द्रीय विश्वविद्यालय में  सहायक प्राध्यापक (हिन्दी) के पद पर  होने की खुशी मे...