वर्तमान भारतीय युवा राजनीति : चित्तवृत्ति और लोकवृत्त


--------------------------------

मान्यवर,

आपसी संवाद, बहस और विकल्प की अधुनातन संचेतना को लक्षित करते हुए भारतीय युवा राजनीति की चैहद्दी को ‘वर्तमान युवा राजनीति: चित्तवृित्त और लोकवृत्त’ विषयक राजीव रंजन प्रसाद की सेमिनार-प्रस्तुति के बहाने खुले विषय के रूप में प्रश्नांकित किया जा रहा है। सम्प्रति राजीव रंजन प्रसाद, हिन्दी विभाग में प्रो0 अवधेश नारायण मिश्र के मार्गदर्शन में ‘संचार और मनोभाषिकी(युवा राजनीतिज्ञ संचारकों के विशेष सन्दर्भ में)’ विषयक शोधकार्य में संलग्न हैं।

इस सेमिनार-प्रस्तुति के अन्तर्गत वर्तमान युवा राजनीति के दो पक्ष विचारार्थ प्रस्तुत हैं-1) चित्तवृत्ति और 2) लोकवृत्त। चित्तवृत्ति के रूप में युवा राजनीतिज्ञों के व्यक्तित्व, भाषा एवं व्यवहार से सम्बन्धित विभिन्न बिन्दुओं पर प्रकाश डाला गया है; वहीं लोकवृत्त के अन्तर्गत युवा राजनीतिज्ञों के राजनीतिक समाजीकरण, संभाव्य राजनीतिक संचेतना, नेतृत्व, निर्णय-क्षमता इत्यादि से सम्बन्धित विविध पक्षों पर सम्यक् विवेचन-विश्लेषण प्रस्तुत है।

आप सभी इस अवसर पर सादर आमंत्रित हैं!

स्थान: हिन्दी विभाग       मंगलवार: 10 सितम्बर, 2013                 
समय: अपराह्न 3 बजे
Post a Comment

Popular posts from this blog

‘तोड़ती पत्थर’: संवेदन, संघात एवं सम्प्रेषण

उपभोक्ता-मन और विज्ञापन बाज़ार की उत्तेजक दुनिया

भारतीय युवा और समाज: