Friday, July 4, 2014

वाह! रजीबा वाह!

1.

बहुत दिन हो गए थे-‘हँसे’,
जब बुरे फँसे, तो खूब हँसे।

2.

सुना था-‘खिसियानी बिल्ली खंभा नोंचे’,
आज अपनी ही बालों का कचूमर निकाला।

3.

नौकरी लगी, तो क्या करूँगा,
पैर पसार हीक भर सोऊँगा।

4.

जिनके पास दौलत है बेशुमार
वे भी रहते हैं बुरी तरह बीमार।

5.

मोदी जी प्रधानमंत्री बनने के लिए खूब पापड़ बेले
आइए, हम सब बेले हुए पापड़ों को मिलकर खाएँ।

6.

जो कहा जाये-‘मत करो’, ‘नत करो’
दिल कहे, तो उसके लिए सब करो।
Post a Comment

हमने जब भी पाया, पूरा पाया...!

अपने मित्र डाॅ. लक्ष्मण प्रसाद गुप्ता का चयन इलाहाबाद केन्द्रीय विश्वविद्यालय में  सहायक प्राध्यापक (हिन्दी) के पद पर  होने की खुशी मे...