Saturday, July 5, 2014

नदी के दिन-दुर्दिन


........

लोग झाड़ा फिरने आते थे
भिनसारे से सुबह तक
नदी की ओर

लोग नहाने आते थे
भोर होते या उदित होते सूरज संग
नदी की ओर

लोग कई-कई मर्तबा आते थे
इस-उस काम से
नदी की ओर

नदी की ओर
अब कोई नहीं आता
कहते हैं सब-‘बिन पानी की नदी किस काम की....?’


Post a Comment

हमने जब भी पाया, पूरा पाया...!

अपने मित्र डाॅ. लक्ष्मण प्रसाद गुप्ता का चयन इलाहाबाद केन्द्रीय विश्वविद्यालय में  सहायक प्राध्यापक (हिन्दी) के पद पर  होने की खुशी मे...