Thursday, July 25, 2013

यही सच है!


...............

आज दीपू
तुम्हारा जन्मदिन
और मैं बेरोजगार
चाहता हूँ
तुम्हारी हँसी उधार.....!
Post a Comment

आजाद-लोग अमनपसंद हों जरूरी नहीं!

-------------- राजीव रंजन प्रसाद ‘डेडलाइन’ की ड्यूटि में बँधा एक पत्रकार अमनपसंद हो सकता ...