ओह! प्रोमीथियस मुझे तुम्हारे मन की व्यथा-कथा कहनी है

दैवीय-सत्ता के अमानुष और बर्बर
 होने 
की 
प्रतीकात्मक नाट्य 
का 
पुर्नपाठ
-----------------
समकाल के बरास्ते एक मनोवैज्ञनिक: मनोभाषिक पड़ताल
राजीव रंजन प्रसाद




no wait pls...!
it's personal write up
Post a Comment

Popular posts from this blog

‘तोड़ती पत्थर’: संवेदन, संघात एवं सम्प्रेषण

उपभोक्ता-मन और विज्ञापन बाज़ार की उत्तेजक दुनिया

भारतीय युवा और समाज: