आज 07.04.14


...........................

आज दूध फट गया। गर्मी काफी है, इस कारण। सीमा ने उसे अपने ओढ़नी में बांधकर दरवाजे से टांग दिया। नीचे बाल्टी में पानी गिर रहा था-ठप, ठप...। मैं, सीमा, देव और दीप ने साथ बैठकर छेना की सब्जी और भात खाया। बड़ा ही स्वादिष्ट। कहा, चलो...कुछ तो अच्छा हुआ। बिटना(दीप) तो अपनी थाली में से बिन-बिन कर चट कर गया छेना का टुकड़ा। देव उस पे गुस्सा हो रहा था। सीमा ने कहा कि जाने दो बच्चा है। फिर उसने मुझे चिढ़ाया-तब आपका चाय कल कैसे बनेगा? मैं मुसकरा दिया।
Post a Comment

Popular posts from this blog

‘तोड़ती पत्थर’: संवेदन, संघात एवं सम्प्रेषण

उपभोक्ता-मन और विज्ञापन बाज़ार की उत्तेजक दुनिया

भारतीय युवा और समाज: