Friday, March 14, 2014

रजीबा-सूक्ति


...............

जब लोकतंत्र बनिए की दुकान बन जाता है, तो हमें छोटी-से-छोटी चीजों की भी कीमत चुकानी पड़ती है। ध्यान रहे, यह कीमत जीवन-मूल्य और जीवन-बोध से निर्देशित अथवा अनुप्राणित नहीं होता है।
Post a Comment

हमने जब भी पाया, पूरा पाया...!

अपने मित्र डाॅ. लक्ष्मण प्रसाद गुप्ता का चयन इलाहाबाद केन्द्रीय विश्वविद्यालय में  सहायक प्राध्यापक (हिन्दी) के पद पर  होने की खुशी मे...