कविता में बारिश का नाम


..........................

ओरहन देते खेतों का
बदला है स्वर
यह बरसे बारिश का असर है!

भर गए हैं ताल-पोखर
पाँची* नदी गिर रही है झार के
यह बरसे बारिश का असर है!

बदला है मिजाज
जोंकटियों के रेंगने का पानी में
यह बरसे बारिश का असर है!

जुटे गए हैं किसान
अपने-अपने अभियान में
यह बरसे बारिश का असर है!

बच गई है खेतिहरों की आत्मा
अकालग्रस्त होने से
यह बरसे बारिश का असर है!

तवाँ गई हथेली अफ़सरों-बाबूओं की
कि नहीं मिलेगी रेवड़ियाँ** इस बार 
यह बरसे बारिश का असर है!

आदमी होने की जद्दोज़हद मे
आखिर सफल हुए किसान
यह बरसे बारिश का असर है!

लेकिन कहना भाई मोदी जी से
एक विज्ञापन रचे और
कि यह ‘अच्छे दिन’ का असर है!!!
...............................
*कैमूर की पहाड़ी की एक घाटी झील
**जो अकाली क्षेत्र घोषित होने पर मिलती है
Post a Comment

Popular posts from this blog

‘तोड़ती पत्थर’: संवेदन, संघात एवं सम्प्रेषण

उपभोक्ता-मन और विज्ञापन बाज़ार की उत्तेजक दुनिया

भारतीय युवा और समाज: