संयुक्त परिवार की अहमियत


------------------

किसी भी देशीय-वातावरण में,
दिक्-काल में, 
सांस्कृतिक-साभ्यतिक जीवनचर्या में,
‘शब्द’ और ‘अर्थ’ 
आपसदारी का सम्पृक्त-भाव 
बोध/अनुभव कराने में सफल तभी हो पाते हैं, जब समाज में 
संयुक्त-परिवार अपने रचाव-बनाव, गठन,-संगठन एवं व्यवहार-नेतृत्व में 
सापेक्षतया कार्यशील, गतिशील और उत्तरोत्तर परिवर्तनशील अथवा उन्नतशील बने रहते हैं। 
इस घड़ी भारतीय समाज इसी ‘मनो-संकट’(यथार्थ और विभ्रमयुक्त) से बुरी तरह जूझ रहा है।
                                                                                                                         - प्रो़. आर्जीव
Post a Comment

Popular posts from this blog

‘तोड़ती पत्थर’: संवेदन, संघात एवं सम्प्रेषण

उपभोक्ता-मन और विज्ञापन बाज़ार की उत्तेजक दुनिया

भारतीय युवा और समाज: