जन-प्रतिनिधि

--------------------
 मैं ही गांधी, मैं ही भगत...और मैं ही सुभाष चन्द्र बोस
---------

जो भूखा है
जो नंगा है
जो गरीब है
जो जरूरतमंद है

वह कहां जन-प्रतिनिधि है?

अतः मतदान से पहले
अपने नाम का परचे भरो
चुनाव लड़ो

देशवासियों, मुल्क आजाद है
अपने किस्मत का मालिक खुद बनो!!!
Post a Comment

Popular posts from this blog

‘तोड़ती पत्थर’: संवेदन, संघात एवं सम्प्रेषण

उपभोक्ता-मन और विज्ञापन बाज़ार की उत्तेजक दुनिया

भारतीय युवा और समाज: