Thursday, June 19, 2014

आम-आदमी


...............

रोटी बनाने के लिए
जितनी गूँथीं जाती हैं आटा
भात बनाने के लिए
जितनी धोई जाती है चावल
घर भर के अंदाज से
जितनी काटी जाती है तरकारी थाल में
राजीव, आम आदमी को हर रोज
अपने लिए उतना ही जीना चाहिए
बाकी चिंताएँ छोड़कर कल पर....!
-------------------

-राजीव रंजन प्रसाद
Post a Comment

हमने जब भी पाया, पूरा पाया...!

अपने मित्र डाॅ. लक्ष्मण प्रसाद गुप्ता का चयन इलाहाबाद केन्द्रीय विश्वविद्यालय में  सहायक प्राध्यापक (हिन्दी) के पद पर  होने की खुशी मे...