I WANT TO SCAPE FROM BANARAS HINDU UNIVERSITY!!!


"मैं बेवकूफ हँू, मैं ख़राब हूँ....लेकिन आपलोगों में से एक नहीं हूँ......!"

वीरा कितनी सही कहती है:
थैंक्यू फ़िल्म ‘हाइवे’

Post a Comment

Popular posts from this blog

‘तोड़ती पत्थर’: संवेदन, संघात एवं सम्प्रेषण

उपभोक्ता-मन और विज्ञापन बाज़ार की उत्तेजक दुनिया

भारतीय युवा और समाज: