मम्मी हो आज ‘मदर्स डे’ हऽ

जानतानी खूब हसबँू तू. हँस लऽ, लेकिन सच कहतानि की आज के तारीख बउये तोहरे नाम. आज मदर्स डे हऽ. दुनिया भर के मम्मी लोगन के आज बच्चवन-बेटवन सब गिफ्ट दिहन जा. हऽ ठीक कहताडू तोहार कन्यो के मिली गिफ्ट. लेकिन ओनि के तऽ अभी नबोज बाड़सन. अधिक से अधिक बिस्कुट आ चाकलेट खिया दिहसन उनका के. और हम...? हाँ, हम तोहरा खातिर कवन गिफ्ट ले सकिला ई तऽ सोचे के पडि़ न हो.
तू ठीक कहताड़ू कि इ सब तारीख विदेशिया प्यार जताव के हऽ. लेकिन हमार-तोहार कोई बात सुनी थोड़े. सब कोई शहरिया वेष धरि लेले बा. उहो आपन अर्जल थोड़े बा. दूसर दुनिया के चाल अउरि रंग-ढंग के नकल करि के हमनि के कबो मदर्स डे मनावतानि जा तऽ कबो फादर्स डे. सचो के मनवा-दिलवा में आदर लोगन के केतना बउये, तू हूं तऽ देख ताड़ू ना. जाये द छोड़. आज तू और कन्या मिली-बहुरि के खुशी-खुशी दिन बितइह जा. कवन बात के ले क तू-तू मैं-मैं ना. आज मदर्स-डे हऽ न! ऐ से हमहूं यहीजे से पैर छू के प्रणाम करऽ तानि.
3 comments

Popular posts from this blog

‘तोड़ती पत्थर’: संवेदन, संघात एवं सम्प्रेषण

उपभोक्ता-मन और विज्ञापन बाज़ार की उत्तेजक दुनिया

भारतीय युवा और समाज: