ये रिश्ता क्या कहलाता है...?

हम दो थीं
एक-दूजें पर मरने-कूटने वाली
लड़ने-झगड़ने वाली
आपस में अक्सर।

हम दो थीं
चाँद-सितारों की तरह
आसमान में उगने वाली
अल्हड़ और आप ही में मगन।


हम दो थीं
जिनके साथ घूमने-फिरने पर
नहीं थी कोई रोक-टोक
न ही कोई प्रतिबंध।

आज हम दोनों हैं
पर हम पर बंदिशे हजार
शहर से आए शब्दकोश में
क्या तो लिखा है
हम दोनों ‘लेस्बियन’ हैं!
Post a Comment

Popular posts from this blog

‘तोड़ती पत्थर’: संवेदन, संघात एवं सम्प्रेषण

उपभोक्ता-मन और विज्ञापन बाज़ार की उत्तेजक दुनिया

भारतीय युवा और समाज: