Tuesday, May 10, 2011

ख़बर के नक्शे पर भट्टा पारसौल

ब्लाॅग ‘इस बार’ ने कलम चलानी चाही, तो
एक शुभचिन्तक मित्र ने कहा कि यह ख़बर लिखने के लिए
लिखना है या फिर सोचने के लिए. मैं सोचने लगा.
चिन्तन अभी तक जारी है...!
Post a Comment

हमने जब भी पाया, पूरा पाया...!

अपने मित्र डाॅ. लक्ष्मण प्रसाद गुप्ता का चयन इलाहाबाद केन्द्रीय विश्वविद्यालय में  सहायक प्राध्यापक (हिन्दी) के पद पर  होने की खुशी मे...