Saturday, May 14, 2011

पत्रकारिता के 'रुग्ण' तथा 'रुदन' काल से उबरिए

नोट : इस आलेख को आप पढ़ सकेंगे 'इस बार'
में दो माह बाद.तब तक मनाइये छुट्टी गर्मी की.
Post a Comment

हमने जब भी पाया, पूरा पाया...!

अपने मित्र डाॅ. लक्ष्मण प्रसाद गुप्ता का चयन इलाहाबाद केन्द्रीय विश्वविद्यालय में  सहायक प्राध्यापक (हिन्दी) के पद पर  होने की खुशी मे...